Latest-News
ब्रिटिश हाईकमीशन टीम को हराकर इम्वा शान से सेमीफाइनल में पहुंची। | भारी बरसात के बावजूद 78 मीडियाकर्मियों और उनके परिजनों ने कराया निशुल्क आंखों का टेस्ट। | न्यायाधीश श्री विजेंदर जैन जी के जन्मदिवस पर इम्वा अध्यक्ष ने दी शुभकामनाएं। | मन की चौपाल, अधिवक्ताओं के साथ। | इम्वा ने पूछा देश के बड़े बड़े डॉक्टर से क्या कोरोना की तीसरी लहर आएगी?  | एबीपी के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की मौत की न्यायिक जांच हो- राजीव निशाना | कवि सम्मेलन द्वारा कोरोना काल में लोगों को तनाव से दूर रखा जा सकता है - रमेश चंद्र रतन | IMWA के अध्यक्ष राजीव निशाना हुए सम्मानित | IMWA अध्यक्ष सहित स्पेशल सीपी ने दी अली को बधाई  | रैंप पर चलेंगे पत्रकार | 
 
 
इम्वा ने पूछा देश के बड़े बड़े डॉक्टर से क्या कोरोना की तीसरी लहर आएगी?

इंडियन मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन की तरफ से जूम मीटिंग के द्वारा जाने-माने डॉक्टर के साथ क्या कोरोना कि तीसरी लहर आएगी और कितने तैयार हैं हम इस मुद्दे के साथ चर्चा हुई क्या करोना की तीसरी लहर आएगी इसके बारे में सभी डॉक्टरों ने अपने अलग अलग मत दिए।

डॉक्टर अनिल :  ने कहा कि  कोरोना की तीसरी लहर नहीं आएगी और आएगी तो हलके लक्षण वाली होगी। वैक्सीन में तेजी लाना होगा, एक करोड़ लोगों को वैक्सीन देने के लिए  लक्ष्य होना चाहिए ।बच्चों को वैक्सीन लगवाने की आवश्यकता है। हमारी कितनी बेसिक तैयारी है।  कितनी वैक्सीन आदि तैयार हो चुकी है ।बीजेपी कोरोनावायरस से निपटने के लिए  4000 वैलेंटीयर  तैयार करेगी और आम आदमी पार्टी 5000 वैलेंटीयर तैयार करेगी। बेड, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर, दवाइयां आदि बढ़ानी होगी ,जल्दी जल्दी आइसोलेशन हो सकेगी, हमें ट्रेनिंग वाले बच्चों का प्रयोग करना चाहिए। अब रेमडेसीविर इंजेक्शन का काफी उत्पादन हो रहा है, लाखों टेबलेट का उत्पादन हो रहा है, ऑक्सीजन टैंकर और ऑक्सीजन उत्पादन बढ़ाना होगा। हेल्थ की  मूल व्यवस्था को बढ़ाना होगा, कोरोना की तीसरी लहर हल्के लक्षण वाली होगी, करोना कि तीसरी लहर बच्चों के लिए होगी, 12 से 18 साल बच्चों को कोरोनावायरस ज्यादा प्रभावित करेगा। बहुत सारे लोगों को वेंटिलेटर नहीं मिला क्योंकि वेंटीलेटर चलाने वाले  स्टाफ की कमी थी।
भारतीय परिवेश को समझना होगा। भारत में अलग-अलग तरह की समस्याएं हैं। पीने का पानी तक नहीं मिलता। करोना की दूसरी लहर में हम तैयार नहीं थे। कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना है। कुंभ के कारण उत्तराखंड की सरकार की गई, क्योंकि  कुंभ मेले में भीड़ लगने से बहुत सारे लोग कोरोना  पॉजिटिव हो गए थे,  प्राइमरी हेल्थ सेंटर मिले गांव को, बेसिक सर्विसेज बढ़ाना होगा,  एतिहात रखना है। यह नहीं सोचना कि कोरोना की तीसरी लहर नहीं आएगी। करोना की दूसरी लहर में सिस्टम फेल था। पत्रकार को हॉस्पिटल में बेड तक नहीं मिला। तीसरी लहर को लेकर तैयारी करनी होगी ।आम आदमी सरकार से उम्मीद नहीं करेगा तो किससे करेगा।

हमें कोरोना की दूसरी लहर से सबक लेना है सरकार को मूल व्यवस्था बढ़ाना होगा, जीडीपी का 10 परसेंट हेल्थ सेक्टर  में  लगाना होगा। ऑक्सीजन, बेड, दवाइयां आदि बढ़ाया जाए, कोरोना की तीसरी लहर के लिए हमें तैयारी रखनी होगी।

डॉक्टर कीरीत: 
  
लॉकडाउन से लोगों को परेशानी हुई है। अगर लॉकडाउन  नहीं लगा होता तो क्या परिणाम होते। करोना का मुकाबला करना है वैक्सीन के जरिए। कोरोना नियमों का पालन करना होगा, वैक्सीन लेने के बाद यह नहीं सोचना कि कोरोना नहीं होगा। मास्क लगाना है, 2 गज की दूरी रखनी है, वैक्सीन लगवाने से 6 महीने तक शरीर में एंटीबॉडी रहती है, कोरोना की तीसरी लहर में हलके लक्षण आएंगे, कोरोना की तीसरी लहर नहीं आएगी उससे मैं असहमत हूं। जो बच्चे ट्रेनिंग ले रहे हैं उनका उपयोग करें, ऑक्सीजन की कमी, दवाइयों की कमी , रेमडेशिविर की कमी आदि को पूरा करना होगा, पीएम ने प्राथमिकता कोरोनावायरस महामारी को दिया है।

डॉ रमेश ठाकुर

हमे सकारात्मक रहना है, अगर तीसरी लहर आती हैं तो हमें किस तरह तैयार रहना चाहिए, अब हर घर के लोग डॉक्टर बन गए हैं, भारत सरकार तीसरी लहर को किस तरह हल करेगी, मेडिकल साइंस में एकमत नहीं है कोरोना की तीसरी लहर आएगी या नहीं आएगी।

डॉ अशोक गुप्ता

सावधानी रखनी होगी, कोरोना की तीसरी लहर  आ भी  सकती है नहीं भी आ सकती है, बेड बढ़ाई जाए, ऑक्सीजन प्राप्त मात्रा में हो,
 सरकार प्रयास कर रही है।


 राहुल भार्गव  : ने बताया कि अमेरिका कोरोनावायरस से जीत चुका है भारत कोरोनावायरस से अभी नहीं जीत सका है ।हमें मूल व्यवस्था को बढ़ाना होगा, वैक्सीनेशन बढ़ाना होगा, इससे आईसीयू की जरूरत नहीं पड़ेगी, कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है,  हमें जल्दी वैक्सीनेशन करना होगा, मास्क पहनना होगा, 2 गज की दूरी रखनी होगी, हैंड सेनीटाइज करना होगा, लोगों पर सख्ती करना होगा। 60 परसेंट लोगों को वैक्सीन लग चुकी है, नवंबर तक 75  पर्सेंट वैक्सीन लोगों को  लग जाएगी, तीसरी लहर कम होगी। वैक्सीनेशन पर पूरा जोड़ दिया जाए।


 अमलेश पत्रकार

नई दिल्ली के सीएम ने पीएम से मांग की है देश के सभी डॉक्टरों को भारत रत्न दिया जाए। हमारी देश की शिक्षा स्वास्थ्य की हालत खराब है। दवाइयां, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन की कमी है। सावधानी से रहना है, मास्क लगाना है, हाथ सेनीटाइज करते रहना है, एतिहात बरतना है। सुविधाओं का लोग गलत फायदा उठा रहे हैं। दुनिया में कहीं भी लोग पूरे साल मास्क नहीं पहन रहे हैं फ्लोरिडा के बीच पर करोना के समय भीड़ लगी थी, अमेरिका में 70 परसेंट लोगों को सिंगल वैक्सीन लग चुकी है । 30 परसेंट लोगों को अमेरिका में डबल डोज वैक्सीन लग गई है।

 डॉक्टर t.s केलर

कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है, 17 से 18 परसेंट लोगों को वैक्सीन लग गई है, जल्दी वैक्सीनेशन करना होगा , हमेशा मास्क पहनना है, हाथ सेनीटाइज करते रहना है, 2 गज की दूरी रखनी है, सरकार को सख्ती  उठाना चाहिए। हमें सावधानी रखनी है।

नरेश पत्रकार

सरकार ने करोना महामारी की तैयारी नहीं की, सरकार का काम है, कोरोनावायरस महामारी से निपटना, अभी तक 32 करोड़ लोगों को कोरोना वैक्सीन की फर्स्ट डोज मिली है, 6 करोड़ लोगों को डबल डोज मिली है, बड़ी संख्या में स्पूतनिक वैक्सीन नहीं मिला । अमेरिका में कोरोना से 6 लाख मौतें हुई। सामाजिक दूरी नहीं हो रही है। देश की बेसिक स्थिति कमजोर है।


डॉक्टर मली

आईसीएमआर का सर्वे हैं कि 50 परसेंट लोग मास्क नहीं लगा रहे हैं, सिर्फ 40 पर्सेंट लोग मास्क लगा रहे हैं, सोशल डिस्टेंसिंग नहीं हो रही है, वैक्सीन लेने के 2 हफ्ते बाद रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, अमेरिका में अलग-अलग संस्थानों में कोरोनावायरस नियमों का पालन किया जा रहा है, चीन में ज्यादा  पढ़े लिखे लोग हैं इसलिए वुहान से बाकी देश में कोरोनावायरस नहीं फैला। मास्क लगाना है, 2 गज की दूरी रखने है, वैक्सीन लेना है, 16 जनवरी को पहली डोज लगी थी, एम्स में दूसरे वार्ड को बदलकर करोना वार्ड बनाया जा रहा है एम्स कोरोना की तीसरी लहर को लेकर तैयार हैं।

 विकास ग्रोवर पत्रकार

फार्मा सेक्टर पर सरकार ध्यान नहीं दे रही है।

कुछ डॉक्टरों कहना है की कोरेना की तीसरी लहर नहीं आएगी लेकिन कुछ डॉक्टर इसकी आलोचना कर रहे है और कह रहे हैं, कि कोरेना कि तीसरी लहर आएगी। लेकिन ज्यादातर  डॉक्टरों का कह रहा है कि हमें कोरोना की तीसरी तीसरी लहर को लेकर पूरी तैयारी करनी होगी। बेड की संख्या बढ़ानी होगी ।ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में पूरा करना होगा। दवाइयों का उत्पादन बढ़ाना होगा।  वेंटिलेटर बढ़ाने होंगे। कई लाख करोना योद्धा तैयार करने होंगे। सरकार को मूल व्यवस्था पर ध्यान देना होगा। हमें कोरोना के दूसरी लहर से सबक लेना है। सभी लोगों को करोना कि नियमों का पालन करना है सभी लोगों को जल्द से जल्द कोरोना की वैक्सीन लेना है। कोरोना वैक्सीन लेने के बाद भी कोरोना के नियमों का पालन करना है जैसे सामाजिक दूरी रखना, हमेशा मास्क लगा के रखना, समय-समय पर हाथ सेनीटाइज करना, सरकार के आदेशों को मानना है।

दिल्ली से दिलीप शर्मा की रिपोर्ट

More News...