मीडियाकर्मियों की मांगों के लिए आगे आए विधायक अनिल बाजपेयी

नई दिल्ली। इंडियन मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष राजीव निशाना ने विधायक अनिल बाजपेयी का धन्यवाद किया कि भारत में कोई नेता तो ऐसा है जो मीडियाकर्मियों के दर्द को समझता है।

अनिल बाजपेयी ने मीडिया कर्मियों की आवाज बन कर एक अलग मिसाल दी है। राजीव निशाना ने कहा की और भी नेताओं को आज आगे आना चाहिए क्योंकि जो पत्रकार उनकी खबरों को छापते हैं उनके दर्द में भी नेताओं को बराबरी का सहयोग देना चाहिए। 

कोरोना काल में मीडिया हाउस और पत्रकारों के सामने गंभीर संकट पैदा हो गया है। केन्द्र और प्रदेश सरकारें अन्य उद्योगों पर तो ध्यान दे रही हैं लेकिन मीडिया जगत की ओर किसी का ध्यान नहीं है।

ऐसे में गांधीनगर विधानसभा क्षेत्र के भाजपा विधायक अनिल बाजपेयी ने पत्रकारों को कई तरह की सुविधाएं देने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखा है।
  उन्होंने कहा है कि कई अन्य राज्यों की तरह दिल्ली सरकार भी पत्रकारों के लिए पेंशन का प्रावधान करे। सभी मान्यता प्राप्त पत्रकारों को प्राइवेट अस्पतालों में कैशलेस  मेडिक्लेम का प्रावधान हो। किसी भी कारण से मृत्यु होने पर उसके परिवार को एकमुश्त एक करोड़ रुपये की सहायता राशि दी जाए।
अनिल बाजपेयी ने पत्र में कहा है कि केवल बड़े अखबारों को ही विज्ञापन न दिया जाए बल्कि दिल्ली सरकार से मान्यता प्राप्त सभी अखबारों को रोस्टर बनाकर विज्ञापन जारी किये जाएं। उनका कहना है कि कोरोना काल में सभी अखबार बड़े नुकसान से गुजर रहे हैं। ऐसे में कोई ऐसी पॉलिसी बनाई जाए, जिससे अखबार से जुड़े लोगों का भी जीवन यापन सही ढंग से हो सके।
उन्होंने DHFC के माध्यम से मान्यता प्राप्त पत्रकारों को बेहद कम ब्याज दर पर घर खरीदने के लिए ऋण की व्यवस्था कराने का मुद्दा भी उठाया है। साथ ही कहा है कि दिल्ली मेट्रो में पत्रकारों को फ्री यात्रा का प्रावधान किया जाए। अखबारों के कागज़ की खरीद भी टैक्स फ्री कराने की मांग की गई है। दिल्ली के और भी पत्रकार और सामाजिक संगठनों ने अनिल बाजपेयी के इस कदम से सराहना की है।

More News...